हुदहुद  तूफान से भी खतरनाक होगा Amphan Super Cyclone - Benakab Bhrastachar
Breaking Newsअम्बेडकरनगरउत्तर प्रदेशदेशफैजाबादराज्यलखनऊहोम

हुदहुद  तूफान से भी खतरनाक होगा Amphan Super Cyclone

संवाददाता अरमान अली बी बी लाइव न्यूज आलापुर अम्बेडकर नगर

हुदहुद  तूफान से भी खतरनाक होगा Amphan Super Cyclone

देश में एक और चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ (Cyclone Amphan) दस्तक दे चुका है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) का अनुमान है कि इस तूफान की गति 200 किलोमीटर प्रति घंटे से भी ज्यादा हो सकती है। कई मायनों में यह तूफान साल 2014 में आए ‘हुदहुद’ तूफान (Cyclone hudhud) से काफी भयावह और विध्वंसक हो सकता है। 2014 में ‘हुदहुद’ ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा जैसे तटीय राज्यों के अलावा उत्तर प्रदेश समेत कई मैदानी राज्यों में भी भयंकर तबाही मचाई थी।
‘हुदहुद’ तूफान के वक्त आईएमडी की चेतावनियों पर संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने जमकर तैयारियां की थीं। लगभग 300 से ज्यादा राहत शिविर बनाए गए थे और तीन लाख से ज्यादा लोगों को कैंपों में शिफ्ट किया गया था। यही कारण था कि मौत के आंकड़ों को काफी कम संख्या पर सीमित किया जा सका। हालांकि, सरकारी और निजी संपत्तियों का काफी नुकसान हुआ था।
अम्फान चक्रवात का असर, ओडिशा और तमिलनाडु में सोशल डिस्टेंसिग बना चैलेंज

क्या-क्या तबाह कर देगा अम्फान?

तूफान की भयावह रफ्तार, तेज बारिश और अन्य प्राकृतिक घटनाएं विनाश का कारण बन सकती हैं। इसके अलावा बारिश और तूफान के बाद पैदा होने वाली भुखमरी, विस्थापन और कोरोना जैसी समस्या इस बार काफी समस्या पैदा कर सकती है। ‘हुदहुद’ या अन्य तूफानों के वक्त भारत को सिर्फ तूफान से ही लड़ना था। इस बार कोरोना के संक्रमण से जूझ रहे भारत के लिए यह तूफान दोहरी मुश्किल पैदा कर रहा है। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि यह तूफान ‘हुदहुद’ ही नहीं अब तक के बाकी तूफानों से भी भयावह हो सकता है।
तेज बारिश के कारण किसानों की फसलों, फसल की तैयारियों और तैयार फसलों पर भी काफी असर पड़ेगा। देश के कई हिस्सों में किसान धान की फसल की तैयारी शुरू कर रहे हैं। बारिश के चलते कहीं फसल की तैयारी आसान भी हो सकती है तो कहीं तैयारियां काफी पिछड़ सकती हैं। तूफान में किसानों का भी अच्छा-खासा नुकसान होने की आशंका है।
एक दशक में पांचवां बड़ा साइक्लोन, पहले भी तूफानों से लड़कर खड़ा हो चुका है ओडिशा
यही कारण है कि तटीय राज्यों में समुद्री तट पर रहने वाले लोगों को हटाया जा रहा है। पिछले कई दिनों से तैयारियां जारी हैं। पश्चिम बंगाल, ओडिशा, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु जैसे तटीय राज्यों में एनडीआरएफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं। संबंधित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पूरे हालात पर खुद नजर रख रहे हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय भी काफी सक्रिय है और राज्यों को तैयारी के लिए हर संभव मदद की जा रही है।
‘अम्फान’ की रफ्तार और बारिश मचाएगी तबाह
20 मई की दोपहर या शाम को यह चक्रवाती तूफान दिगहा (पश्चिम बंगाल)-हटिया आईलैंड (बांग्लादेश) को पार करेगा। इस दौरान हवा की गति करीब 155-165 किमी प्रति घंटा होगी। मौसम विभाग के अनुसार ‘अम्फान’ तूफान 20 मई के आसपास पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाकों से गुजेरगा। तूफान की तीव्रता के कारण काफी नुकसान की आशंका जताई जा रही है।
पूर्वी दिशा में आगे बढ़ेगा। अनुमान है कि तूफान अम्फान 21 मई को बांग्लादेश पर लैंडफॉल करेगा।
कहां-कहां होगा असर
चक्रवाती तूफान अम्फान को देखते हुए IMD ने आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर में पहले ही ऑरेंज एलर्ट जारी किया है। यहां तूफान की वजह से बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में उठे तूफान अम्फान के कारण दिल्ली-एनसीआर के इलाके में भी मौसम में बदलाव देखे जा सकते हैं। चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ इस समय बंगाल की खाड़ी पर 12.5 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 86.4 डिग्री पूर्वी देशांतर पर है। बिहार और झारखंड में भी मौसम में बदलाव हो सकता है। यहां भी चक्रवाती तूफान अम्फान के प्रभाव के कारण बारिश की संभावना बन रही है।

Related Articles

Back to top button
Close