Breaking Newsगोण्डा

गोण्डा जनपद में 01 सितम्बर से शुरू हो रहे राष्ट्रीय पोषण माह के अन्तर्गत होंगे विभिन्न कार्यक्रम जिलाधिकारी ने अधिकारियों के साथ बैठक कर सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों की दी जिम्मेदारी।

रिपोर्ट :- बी एल कसौधन

*गोण्डा जनपद में 01 सितम्बर से शुरू हो रहे राष्ट्रीय पोषण माह के अन्तर्गत होंगे विभिन्न कार्यक्रम जिलाधिकारी ने अधिकारियों के साथ बैठक कर सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों की दी जिम्मेदारी*

गोण्डा जनपद के गांवों में वीएचएनडी दिवस पेड़ों के नीचे कतई नहीं कराएं जाए बल्कि गावों में संचालित प्राइमरी या उच्च प्राथमिक स्कूलों में कराए जाए।
सभी आशा बहुएं बच्चों के वजन के लिए ग्राम पंचायत के अनटाइड फण्ड से वजन मशीन हर हाल में खरीद लें।
यह निर्देश डीएम डा0 नितिन बंसल ने कलेक्टेट सभागार में 01 सितम्बर से शुरू हो रहे पोषण माह की तैयारी बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।
जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक में सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि वे पोषण अभियान में व्यक्गित रूचि लेते हुए अभियान को सफल बनाने के लिए काम करें। उन्होने कहा कि कुपोषण एवं गर्भवती माताओं के रक्त की कमी को दूर करने के उद्देश्य से शासन द्वारा निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ‘‘राष्ट्रीय पोषण माह‘‘ सितम्बर माह में मनाया जायेगा, जिसके अन्तर्गत जन जागरूकता लाने हेतु प्रतिदिन कार्यक्रमों का निर्धारण किया गया है। अभियान के बारे में विस्तार से बताते हुए उन्होने कहा कि 01 सितम्बर को वजन दिवस मनाया जायेगा, जिसके अन्तर्गत सभी आंगनवाड़ी केन्द्रों पर 05 वर्ष के आयु के बच्चों का वजन किया जायेगा।
इसी प्रकार 02 सितम्बर को सुपोषण दिवस के अवसर पर ग्राम प्रधान की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन होगा, जिसमें पोषण, ऊपरी आहार का सही समय गुणवत्ता मात्रा तथा भोजन की आवर्ती पर चर्चा होगी,
03 सितम्बर को पोषण वाटिका सुदृढ़ीकरण के अन्तर्गत स्कूल व आंगनवाड़ी के प्रांगण में पोषण वाटिका बनाने एवं पौष्टिक शाक सब्जियां ऊगाने के बारे में कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी, 04 सितम्बर को सुपोषण स्वास्थ्य मेला के अन्तर्गत स्वच्छता एवं फल सब्जी से बनें व्यंजनों का प्रदर्शन किया जायेगा,
05 सितम्बर को बाल सुपोषण उत्सव 06 माह से 06 वर्ष के बच्चों को आंगवाड़ी केन्द्रों पर सामूहिक भोजन कराया जायेगा साथ ही ऊपरी आहार पुस्तिका से पढ़कर संदेश भी सुनाया जायेगा, 06 सितम्बर को ब्लाक स्तरीय बैठक का आयोजन किया जायेगा, 07 सितम्बर को सुपोषण कुंज, 09 सितम्बर को किशोरी दिवस, 10 सितम्बर को पोषण रैली गृह भ्रमण, 11 सितम्बर को गृह भ्रमण ऊपरी आहार पुस्तिका पर चर्चा, 12 सितम्बर को किशोरी प्रभात फेरी, 13 सितम्बर को बाल सुपोषण उत्सव, 14 सितम्बर को वी0एच0एस0एन0डी0, 16 सितम्बर को ममता दिवस, 17 सित0 को पोषण फेरी, 18 सितम्बर को गृह भ्रमण, 19 सितम्बर को सुपोषण चैपाल, 20 सितम्बर को अन्न प्रासन दिवस, 21 सितम्बर सुपोषण गुंज, 23 सितम्बर को सुपोषण चैपाल, 24 सितम्बर को पोषण वाटिका, 25 सितम्बर को वी0एच0एस0एन0डी0, 26 सितम्बर को लाडली दिवस, 27 सितम्बर को सुपोषण झांकी, 28 सितम्बर को वी0एच0एस0एन0डी0 सुपोषण गुंज तथा 30 सितम्बर को गोद भराई एवं बाल सुपोषण उत्सव मनाया जायेगा।
जिलाधिकारी ने कहा कि यह राष्ट्रीय कार्यक्रम जनहित का कार्यक्रम है, जिसमें हम सभी को बढ़चढ़ कर भाग लेना चाहिये, ताकि कुपोषण तथा गर्भवती माताओं एवं किशोरियों में रक्त की कमी के कारण होने वाली दुर्घटनाओं को रोका जा सके। उन्होंने राष्ट्रीय पोषण माह अभियान से जुड़े विभागों से समन्वय स्थापित करते हुए दिये गये दायित्वों का निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ निर्वहन किये जाने के निर्देश दिये।
इस पुनीत कार्यक्रम में यदि किसी भी स्तर पर शिथिलता एवं लापरवाही पायी जायेगी, तो सम्बन्धित के खिलाफ कठोर कार्यवाही अमल में लाये जाने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिये। बैठक के बाद जिलाधिकारी ने अधिकारियों को पोषण सम्बन्धी शपथ दिलाई।
बैठक में सीडीओ आशीष कुमार, सीएमओ डा0 मधु गैरोला, जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार, पीडी सेवाराम चौधरी, डीडीओ रजत यादव, डीएसओ वी0के0 महान, पीओ डूडा विनोद सिंह, जिला प्रोबेशन अधिकारी जयदीप सिंह, क्षेत्रीय प्रबन्धक यूनीसेफ शेषनाथ सिंह, सभी सीडीपीओ व प्रभारी चिकित्साधिकारीगण तथा अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित रहे।

रिपोर्ट भरत कसौधन
ब्यूरो चीफ गोण्डा

बेनकाब भ्रष्टाचार

Related Articles

Back to top button