Breaking News

किसानों से खाद पर वसूले जा रहे सरकारी रेट से ज्यादा रुपये।

किसानों से खाद पर वसूले जा रहे सरकारी रेट से ज्यादा रुपये।

किसानों से खाद पर वसूले जा रहे सरकारी रेट से ज्यादा रुपये।

संवादाता- विवेक कुमार सिंह
लखीमपुर खीरी

गन्ना समितियों में किसानों से खाद की बोरी पर अधिक वसूली का मामला सामने आया है।थाना संपूर्णानगर क्षेत्र के अंतर्गत खीरी पीलीभीत केन यूनियन में किसानों को कर्ज़ पर मुहैया कराए जा रही खाद पर अधिक वसूली की जा रही है।केन यूनियन के खाद गोदामों पर खाद लेने आए किसानों की रसीद के मुताबिक ₹25 से लेकर ₹50 अधिक बोरी वसूलने का मामला है।गोदाम पर खाद ले रहे किसानों की रसीद देखी गई तो केन यूनियन की रसीद पर डीएपी का रेट 1450 रुपए अंकित है वहीं पर एनपीके का रेट 1350 रुपए अंकित किया गया है।इसी रेट से किसानों से पैसा वसूल होगा।जबकि सरकार की तरफ से मार्च से खाद के रेट में कमी की गई है।केंद्रीय उपभोक्ता खाद दुकान एवं साधन समिति के मुताबिक एनपीके का रेट 1325 रूपये एवं डीएपी का रेट 1400 रूपये प्रति बोरी है।खीरी पीलीभीत केन यूनियन संपूर्णानगर पर किसानो को एनपीके की प्रति बोरी पर 25 रूपये एवं डीएपी की प्रति बोरी पर 50 रूपये की अधिक वसूली की जा रही है।समितियों पर ओवर रेट से खाद बेचकर लाखों रुपए का चून किसानो को लगाया जा रहा है।इधर इस संबंध मे केन यूनियन के सचिव कृष्ण मोहन पांडे से पुछने पर सचिव रेट को लेकर स्पष्ट जवाब नही दे सके।उधर जिला गन्ना अधिकारी ब्रजेश पटेल ने भी ट्रांसपोर्टिंग का हवाला देकर अपना पला झाड लिया है।

बेनकाब भ्रष्टाचार

Related Articles

Back to top button